Hope Hospital

8, Jai Jawan Colony-II, Near Durga Pura Flyover,
Main Tonk Road, Jaipur, Rajasthan 302018

About Us

The best child hospital in Jaipur, Hope Hospital, is also Rajasthan’s most advanced tertiary level children super specialty hospital with world class child care where every little one’s life matters.

Contact Info

8, Jai Jawan Colony-II, Near Durga Pura Flyover, Main Tonk Road, Jaipur, Rajasthan 302018

+91 7300333666

hopehospitaljaipur@gmail.com

बिस्तर पर पेशाब करना (बेड वेटिंग) क्या है?

यदि किसी बच्चे की आयु 5 वर्ष से अधिक है और तब भी वह बार-बार बिस्तर गिला कर देता है तो कहा जायेगा की वह बच्चा बेडवेटिंग की समस्या (नोक्टर्नल एनपुरेसिस) से पीड़ित है। विशेष रूप से बेडवेटिंग को किसी ऐसे बच्चे द्वारा हर सप्ताह कम-से-कम तीन रातों में बिस्तर पर पेशाब करने के रूप में परिभाषित किया गया है जिसे ऐसी कोई जन्मजात समस्या नहीं है जो बेडवेटिंग का कारण बन सकती है। 
 

क्या बिस्तर गिला करना एक आम समस्या  है?

हाँ। बिस्तर गिला करना एक आम समस्या  है। भारत में किये गए एक अध्ययन के अनुसार विध्यालय जाने वाले 4 से 14 बच्चे बिस्तर गिला करने की समस्या से पीड़ित है। 
 

कुछ बच्चे रात में बिस्तर गिला क्यों करते हैं?

बिस्तर गिला करना कोई मनोविज्ञानिक समस्या नहीं है यह निम्नलिखित में से किसी एक या अधिक कारणों के चलते हो सकती है: 
 

रात में पेशाब बनना घटता नहीं है: हम सभी में रात में पेशाब का बनना घटने के लिए ए. डी. एच. (एंटी डाइयुरेटिक हार्मोन) नमक एक हार्मोन बनता है। यदि आपका बच्चा बिस्तर गिला करता है तो ऐसी संभावना है की बच्चे में रात में पेशाब का बनना घटने के लिए पर्याप्त मात्रा में ए. डी. एच. नहीं बन रहा  है जिस कारण गुर्दे मूत्राशय (पेशाब की थैली) की पेशाब रोके रखने की क्षमता से कहीं अधिक मात्रा में पेशाब बनता है अधिक आयु के बच्चों में बिस्तर गिला करने की समस्या का मुख्य कारण है। 

मूत्रशल का आकर छोटा है: मूत्राशय गुर्दों द्वारा बनाया गया पेशाब एकत्र करके रखता है। बिस्तर गिला करने वाले कुछ बच्चों का मूत्राशय सामान्य से छोटा होता है। जिससे उसकी क्षमता सामान्य से काम होती है। इस कारण वह औसत मात्रा में पेशाब रोक नहीं पता है। इसलिए ऐसे बच्चों के अधिक बार पेशाब करने की जरुरत पड़ती है।
 

मूत्राशय की अस्थिरता: कुछ बच्चों में मूत्राशय पेशाब से भरने पर अचानक सिकुड़ जाता है। 

वंशानुगतता यह बात जानने योग्य है की बिस्तर गिला करने की समस्या वंशानुगत (पीढ़ी दर पीढ़ी) चलने वाली हो सकती है अनुसन्धान से पता चला है की यदि माता, पिता या दोनों बिस्तर गिला करते थे, तो उसके बच्चों के भी इस समस्या से पीड़ित होने की संभावना, बिस्तर गिला नहीं करने वाले माता - पिता के बच्चों की तुलना में 40: में 75: अधिक होती है।
 

क्या बिस्तर गिला करने वाले बच्चे असामान्य रूप से गहरी नींद लेते हैं? 

माता - पिता कहते हैं की बच्चे को जगाना बहुत मुश्किल होता है, क्योंकि वह असामान्य रूप से गहरी नींद सोता रहता है, पर ऐसे बच्चों की नींद के पैटर्न में, बिस्तर गिला नहीं करने वाले बच्चों की तुलना में दिखाई नहीं देता है। इसलिए बिस्तर गिला करने और गहरी नींद के बीच में कोई स्पष्ट सम्बन्ध नहीं है।

 

यह समस्या कोई नुकसान करती नहीं दिखती, तो इसका उपचार क्यों करें?

बिस्तर गिला करने की समस्या का उपचार नहीं करने पर बिस्तर गिला करने वाले बच्चे को निम्नलिखित में से एक या अधिक दीर्घकालीन समस्या हो सकती है? 
 

 1. अवसाद, निराशा या अकेलेपन का एहसास 

 2. आत्मविश्वास की कमी 

 3. घर से बाहर नहीं सो पाने की समस्या 

 4. भाई - बहनों और दोस्तों से मनमुटाव 

 5. आत्मसम्मान कम होना 

 6. समाज में घुलने - मिलने से सम्बंधित समस्याएं 
 

ये समस्याएं तत्काल या जीवन में बाद में विकसित हो सकती हैं जो की जल्द उपचार से वयस्क आयु में बिस्तर गिला करने की समस्या बने रहने से बचाव होता है।

इसलिए, बिस्तर गीला करने वाले बच्चों को परिजनों की और से धैर्य, प्रेरणा और सहयोग के साथ शीघ्र उपचार चाहिए होता है, तभी उपचार सफल हो पाता है।

 

मेरे बच्चे को इस समस्या से छुटकारा दिलाने के लिए में क्या कर सकता/सकती हूँ?

सबसे पहले तो, धैर्य रखें और समझें की यह समस्या बच्चे के नियंत्रण से बाहर है। यह बच्चे का दोष नहीं है इसलिये सकारात्मक बने रहें और जिन रातों में बच्चा गीला न करें उन रातों के लिए उसकी तारीफ करें। अपने बच्चे से सहानुभूति रखें और उसे कोई सजा न दें यदि आपका बच्चा 6 वर्ष या इससे अधिक आयु का है तो फ़ौरन डॉक्टर की सलाह लें।
 

मेरा बच्चा रात में बाहर रहने पर बिस्तर गीला करे इसके लिए क्या मैं कुछ कर सकता/सकती हूँ? 

यह जानकर शायद आपको थोड़ी राहत मिले कि घर से बाहर होने पर बहुत से बच्चे बिस्तर गीला नहीं करते है। ऐसा इस कारण से हो सकता है कि जब वो घर से बाहर होते है तो वे अधिक सचेत होते है। कुछ दवाओं से बहुत से बच्चो में

लगभग फ़ौरन ही इस समस्या पर लगाम लगाने में मद्दद मिलती हैं। आपके डॉक्टर आपको इस बारे में सलाह देंगे कि आपके बच्चे के लिए यह उपयुक्त है या नही। 

 

क्या बिस्तर गीला करने कि समस्या को घटाने के लिए मुझे अपने बच्चे के दिन में तरल चीजों के सेवन को घटाना चाहिये?

दिन में या शाम के दौरान वे जो तरल चीजें पीते हैं उनकी मात्रा घटाने से बिस्तर गिला करने के उपचार में मदत मिलती है।  वस्तुतः दिन में अधिक तरल चीजें पीने की सलाह दी जाती है।  शाम में कैफीन और कोला से बचने का ध्यान रखें।  साथ ही एक और बात इतनी ही महत्वूर्ण है और वह यह है की उन्हें शाम में तरल चीजों की अत्यधिक बड़ी मात्रा में नहीं पीना चाहिए , क्यों की ऐसा करने पर बिस्तर गीला करने की समस्या बढ़ जाएगी।
 

उपचारों में शामिल है:

हाँ, विशेष उपचार उपलब्ध है। यह महत्वपूर्ण है की आप अपने डॉक्टर से परामर्श करें, ताकि रोग की सही पहचान हो और उपुक्त उपचार की सलाह दी जा सके । 
 

अनुकूल(कंडीशनिंग): बच्चे के रात में नियमित अंतरालों पर जगा कर पेशाब करने ले जाया जाता है।

दवाएं: डेस्मोप्रेसिन द्र यह प्राकृतिक हार्मोन आर्जिनिन वैसोप्रेसिन (ए. वी. पी.) का एक संश्लेषण समरूप है। इसे सोते समय लेने पर रात में पेशाब बनना घटता है और बिस्तर गिला करने की संभावना कम करता है। डेस्मोप्रेसिन के साथ अधिक मामलों में सफलता मिलती है और बच्चों द्वारा इसे लम्बे समय तक लिया जाना सुरक्षित है। आपके डॉक्टर आपके बच्चों के लिए इस दवा की टेबलेट या सीरप / सस्पेंशन लिख सकते हैं।
 

विश्व स्वास्थ्य संगठन का क्या कहना है।

विश्व स्वास्थ्य संगठन अब बिस्तर पर पेशाब करने के सुरक्षित और असरदार उपचार के रूप में डेस्मोप्रेसिन नाम का सुझाव देता है। डब्ल्यू. एच. ओ. इमिप्रामिन जैसे दवाओं के उपयोग का सुझाव नहीं देता। क्योंकि इनके बच्चों पर प्राणघातक दुष्प्रभाव पद सकते हैं।
 

निष्कर्ष: आप अपनी ओर से जल्द सलाह मांग कर बच्चे के आत्मविश्वास को मजबूती दे सकते हैं और उसके सफल उपचार की नींव रख सकते हैं। अधिक जानकारी के लिए कृपया अपने नजदीकी 'बेडवेटिंग क्लिनिक' से संपर्क करें।